2nd house

Second House in astrology

Role of Second House in Astrology – Learn Basic Astrology

Second house in astrology is known as the wealth house or Dhana bhava. So, any sort of money related matters will be related to 2nd house. If we go into details about the nature of wealth then 2nd house for accumulated wealth in the horoscope.

कुंडली के द्वितीय भाव में नवमेश का प्रभाव

कुंडली के द्वितीय भाव में नवमेश का प्रभाव 1)कुंडली के द्वितीय भाव में नवमेश का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम नवम भाव और द्वितीय भाव के नैसर्गिक कार्य के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। नवम भाव का स्वामी स्वयं के भाव से छठे स्थान में स्थित है, अतः प्रथम भाव के स्वामी का छठे …

कुंडली के द्वितीय भाव में नवमेश का प्रभाव Read More »

कुंडली के द्वितीय भाव में अष्टमेश का प्रभाव

कुंडली के द्वितीय भाव में अष्टमेश का प्रभाव 1)कुंडली के द्वितीय भाव में अष्टमेश का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम अष्टम भाव और द्वितीय भाव के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। अष्टम भाव का स्वामी स्वयं के भाव से सप्तम भाव में स्थित है, अतः प्रथम भाव के स्वामी का सप्तम …

कुंडली के द्वितीय भाव में अष्टमेश का प्रभाव Read More »

कुंडली के द्वितीय भाव में सप्तमेश का प्रभाव

कुंडली के द्वितीय भाव में सप्तमेश का प्रभाव 1)कुंडली के द्वितीय भाव में सप्तमेश का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम सप्तम भाव और द्वितीय भाव के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। सप्तम भाव का स्वामी स्वयं के भाव से अष्टम स्थान में स्थित है, अतः प्रथम भाव के स्वामी का अष्टम …

कुंडली के द्वितीय भाव में सप्तमेश का प्रभाव Read More »

कुंडली के द्वितीय भाव में षष्ठेश का प्रभाव

कुंडली के द्वितीय भाव में षष्ठेश का प्रभाव 1)कुंडली में द्वितीय भाव में षष्ठेश का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम छठे भाव और द्वितीय भाव के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। छठे भाव का स्वामी स्वयं के भाव से नवम स्थान में है, अतः प्रथम भाव के स्वामी का नवम भाव …

कुंडली के द्वितीय भाव में षष्ठेश का प्रभाव Read More »

कुंडली के द्वितीय भाव में पंचमेश का प्रभाव

कुंडली के द्वितीय भाव में पंचमेश का प्रभाव 1)कुंडली के द्वितीय भाव में पंचमेश का प्रभाव जानने के लिए सर्वप्रथम हम पंचम भाव और द्वितीय भाव के नैसर्गिक कारक के संदर्भ में जानकारी प्राप्त करेंगे। पंचम भाव का स्वामी स्वयं के भाव से दशम स्थान में स्थित है, अतः प्रथम भाव के स्वामी का दशम …

कुंडली के द्वितीय भाव में पंचमेश का प्रभाव Read More »